मंगलवार, 12 दिसंबर 2017

Avocados: History of an unlikely but legitimate healthy food craze

Avocados: History of an unlikely but legitimate healthy food craze


From California to Manila, avocados are a common ingredient on restaurant menus around the world.

They can be found not only spread on toast and tacos but in ice cream, smoothies, hummus and even pasta sauce.

The consumption of avocados in the United States, has been climbing since 1989, when only about 1.1 pounds were consumed per capita, according to the Agriculture Marketing Resource Center, a research group that receives grants from the US Department of Agriculture.

By 2014, about 7 pounds were consumed per capita, and now avocados are a popular food item -- especially due to their health benefits. But what exactly makes them good for you?
Millennials beware! Avocado prices soar
Millennials beware! Avocado prices soar 01:23
"Avocados are a fruit and one of the few fruits that are high in fat and low in sugar," said Dr. Donald Hensrud, medical director of the Mayo Clinic Healthy Living Program in Rochester, Minnesota, and a specialist in nutrition and preventive medicine.
"Along with nuts, olive oil and canola oil, the fat content in avocados are predominantly monounsaturated fat, which is responsible for many ... health benefits," he said. "Avocados also contain other nutrients including B vitamins, vitamin E, vitamin C, copper and fiber, which add to their health benefits. They have a higher potassium content than bananas."
Yet long before the green-hued fruit became a modern-day health food staple, the history of the avocado was preserved in the Americas some 10,000 years ago.
The avocado's name is thought to come from the Aztec word ahuacatl, which means testicle, according to Merriam-Webster dictionary. The name presumably is tied to the shape of avocados.





When Spanish conquistadores arrived in the Americas, avocados attracted their attention, leading to the earliest-known written description of the fruit published in Sevilla in the early 1500s by explorer Martín Fernández de Enciso.
Yet before the avocado was distributed throughout Spanish colonies, Europe and the United States, the fruit was consumed for taste as well as for health, according to a 2007 article in the Harvard Papers in Botany.
In 1605, Spanish soldier and poet Garcilazo de la Vega described the avocado as "delicious and very healthy for sick people," according to the article. De la Vega could have been on to something, as avocados are now seen as a source of the healthy dietary monounsaturated fat.
Monounsaturated fats are good for your health in many ways, such as helping lower your "bad" LDL cholesterol levels and being high in vitamin E, which promotes healthy vision, a healthy immune system and other benefits, according to the US National Library of Medicine.
"In addition, the relatively high fat content in avocados is associated with a low glycemic response, which is the tendency of a food to raise blood glucose," Hensrud said. "Evidence from large populations studies suggests that consumption of monounsaturated fats such as contained in avocados decreases overall mortality."
How could you get those health benefits? Avocado toast has become a trendy way to consume the buttery fruit in the US, but Jenna Stangland, a registered dietitian at the physical therapy clinic Viverant in the Minneapolis area, said there are many other ways to include avocado in your daily diet.
"Avocado oil I think is getting to be easier to find in the grocery stores and more common as a type of oil to use in cooking or a marinade or as an ingredient in a homemade salad dressing, and then that oil contains the healthier fats rather than an oil that would have higher saturated fats," Stangland said. Avocado has a very high smoke point, the temperature at which oil starts to smoke, which makes it a good choice for cooking.
"It's common to do fruit and yogurt and ice cubes in smoothies, but ... adding that avocado adds a really nice creaminess plus a healthy fat that might not be in a smoothie otherwise," she said. "Another one that I've tried, I haven't made myself, are avocado pops. ... It's like a frozen treat that includes that healthy fat."
Follow CNN Health on Facebook and Twitter
See the latest news and share your comments with CNN Health on Facebook and Twitter.
However, because avocados are high in calories, Stangland cautions to watch portion sizes. For instance, topping a salad with about a half-cup of avocado adds 117 calories to your meal.
"Just doing a layer of the avocado on the toast comes out to be about a serving," Stangland said. "At restaurants, or even preparing a dish at home, putting sliced avocado on top of a fish or on top of a salad, it can be really easy to just slice up the whole avocado to put it on top of the salad, and then that's going to be a lot more dense in calories."

Refrence:

(1)http://www.cnn.com/2017/12/08/health/avocados-health-benefits-food-as-fuel-explainer/index.html

दिल का दोस्त बहुउपयोगी फल एवोकेडो

ऐवकाडो फलों के स्पेक्ट्रम के मध्य एक ऐसा बिरला  फल है जिसमें वसा (फैट )अधिक है सुगर से ,शक्कर से ज्यादा है , एक ऐसी एकल असंतृप्त वसा है इसमें जो दिल की दोस्त है।  ऐसा हम नहीं कहते पोषण विज्ञान और बचावी चिकित्सा के माहिर कह रहे हैं। इससे आपको प्राप्त हो सकते हैं विटामिन B ,C ,कॉपर एवं बहु उपयोगी खाद्यरेशे। केले से अधिक पोटेसियम मिल जाता है एवोकाडो से। 

 दसहज़ार बरस पहले से अमरिकी इतिहास में   इसके सेहत को मिलने वाले फायदे मिलते हैं इसके नामकरण को लेकर भी ऐसा यकीन  किया जाता है के एज़्टेक (Aztec)भाषा का एक शब्द है -अहुअकाटल  (Ahuacatl )जिसका शाब्दिक अर्थ हिंदी भाषा में अंडकोष या अंग्रेजी में टेस्टिकल (testicle)होता है।यूं एवोकेडो की आकृति नाशपाती से भी मिलती जुलती है एक सिरे से थोड़ा चौड़ाई ज्यादा लिए रहता है यह गहरे मूंगिया हरे रंग का फल जिसके मध्य में एक बड़ी गुठली भी रहती है। सख्त छिलके वाले इस फल को सफाई से काटना भी एक कला है युक्ति है। 

स्पानी उपनिवेशों योरोप और अमरीका में इसके व्यापक वितरण से पहले भी इसे लोग सेहत और ज़ायके लिए खाते थे। (स्रोत २००७ हार्वर्ड पेपर्स इन बॉटनी ). 

दिल के लिए खराब समझी जाने वाली लिपिड (चर्बी LDL )को कम करने में इसे कारगर समझा गया है  अलावा  इसके इससे प्रचुरता में प्राप्त विटामिन E बीनाई (हमारी नज़र विजन )के लिए अच्छा है मुफीद रहता है। रोगरोधी तंत्र ,हमारे इम्युनसिस्टम को भी यह दुरुस्त रखता है। (स्रोत US National Library Of Medicine ).

इसका सेवन करने वालों में मृत्युदर कमतर मिली है इसमें मौजूद एकल असंतृप्त वसा की प्रचुरता (मोनौअनसैचूरेटड फैट्स )ब्लड शुगर को एक साथ नहीं बढ़ने देती है। ग्लाइकेमिक रेस्पोंस इसका निम्न रहता है। लो ग्लाइकेमिक इंडेक्स  फ़ूड है यह। 
यही वजह है एवोकेडो आज टोस्ट से लेकर ,मैरिनेड के रूप में ,सलाद ड्रेसिंग ,कुकिंग आइल के रूप में बहुविध जगह बना रहा है।एवोकेडो सालसा लाज़वाब है। 

Avocado has a very high smoke point, the temperature at which oil starts to smoke, which makes it a good choice for cooking. 

जानकार अब इसे स्मूथीज (स्मूदी ) (smoothies )फलों के ताज़ातरीन जूस में भी जगह दे रहे हैं। 

लेकिन साहब केलोरीज़ का हिसाब भी रखना पड़ेगा। 
पोरशन साइज का भी अपना गणित है आधा कप एवोकेडो ड्रेसिंग का मतलब है ११७ केलोरीज़। 

"Just doing a layer of the avocado on the toast comes out to be about a serving, "At restaurants, or even preparing a dish at home, putting sliced avocado on top of a fish or on top of a salad, it can be really easy to just slice up the whole avocado to put it on top of the salad, and then that's going to be a lot more dense in calories."

लेवल -दिल का दोस्त  बहुउपयोगी फल एवोकेडो 

सोमवार, 11 दिसंबर 2017

“Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder

क्या आप इन दिनों खुद को ,अपने आप को दीन-हीन , असहाय ,उपेक्षित ,मानने बूझने लगें हैं। आपका स्वाभिमान ,आत्मसम्मान ज़मीन सूंघने लगा है। आप अपनी  सजधज ,पैरहन ,आपके कैसे दिख रहें हैं ,परसनल हाइजीन ,व्यक्तिगत संभाल के प्रति भी नियमित नहाने धोने के प्रति बे -परवाह होने लगें हैं ,सिगरेट शराब का इन दिनों आप पहले से कहीं ज्यादा सेवन कर रहे हैं ?


एक खिन्नता चिड़चिड़ाहट आपको हर पहर घेरे रहती है। आपको लगता है आप किसी काम के नहीं रह गए हैं किसी के काम के भी नहीं रह गए हैं।  अन -उपयोगी अवांछित हो गए हैं अपनों के लिए बाकी सबके लिए भी। न आप खुद अपनी परवाह करते हैं न कोई और ये विचार ,ये संवेदन आप को घेरे रहता है ,तो यकीन मानिये सब कुछ ठीक ठाक नहीं  है आपके लिए। कभी कभार ऐसा होना और बात है और हर दम 'लो एनर्जी लेवल ' में, बेदम सा अनमना रहना दिखना एक दमसे  और बात है।  

पूरी विनम्रता आदर और संकोच के साथ कहता हूँ कहीं ये अवसाद डिप्रेशन के लक्षण तो नहीं है जो आज एक अलग रोग का वैसे ही दर्ज़ा पा गया है जैसे काया के अन्य रोग। 

रूप बदलके भी आते हैं बहरूपिया बन ये लक्षण अति उग्र और मॉडरेट रूप में  भी।सामान्य है सब कुछ वैसा सा ही तो दिख रहा है ऐसा ओढ़ना भी ओढ़े आते हैं अवसाद के लक्षण। 

आज ये छद्म रूप सा दिखने वाला अवसाद कई रूपों में प्रकटित हो रहा है :

(१ )नार्मल डिप्रेशन 

Depression is a mood disorder that causes a persistent feeling of sadness and loss of interest. Also called major depressive disorder or clinical depression, it affects how you feel, think and behave and can lead to a variety of emotional and physical problems. You may have trouble doing normal day-to-day activities, and sometimes you may feel as if life isn't worth living.

More than just a bout of the blues, depression isn't a weakness and you can't simply "snap out" of it. Depression may require long-term treatment. But don't get discouraged. Most people with depression feel better with medication, psychotherapy or both.

(२ )क्लीनिकल डिप्रेशन 

Major Depression (Clinical Depression)


A constant sense of hopelessness and despair is a sign you may have major depression, also known as clinical depression.

With major depression, it may be difficult to work, study, sleep, eat, and enjoy friends and activities. Some people have clinical depression only once in their life, while others have it several times in a lifetime.

Major depression can sometimes occur from one generation to the next in families, but may affect people with no family history of the illness.

Most people feel sad or low at some point in their lives. But clinical depression is marked by a depressed mood most of the day, sometimes particularly in the morning, and a loss of interest in normal activities and relationships -- symptoms that are present every day for at least 2 weeks. In addition, according to the DSM-5 -- a manual used to diagnose mental health conditions -- you may have other symptoms with major depression. Those symptoms might include:

  • Fatigue or loss of energy almost every day
  • Feelings of worthlessness or guilt almost every day
  • Impaired concentration, indecisiveness
  • Insomnia or hypersomnia (excessive sleeping) almost every day
  • Markedly diminished interest or pleasure in almost all activities nearly every day (called anhedonia, this symptom can be indicated by reports from significant others)
  • Restlessness or feeling slowed down
  • Recurring thoughts of death or suicide
  • Significant weight loss or gain (a change of more than 5% of body weight in a month)

(३ )बाइपोलर डिप्रेशन -

Bipolar disorder, formerly called manic depression, is a mental health condition that causes extreme mood swings that include emotional highs (mania or hypomania) and lows (depression).

When you become depressed, you may feel sad or hopeless and lose interest or pleasure in most activities. When your mood shifts to mania or hypomania (less extreme than mania), you may feel euphoric, full of energy or unusually irritable. These mood swings can affect sleep, energy, activity, judgment, behavior and the ability to think clearly.

Episodes of mood swings may occur rarely or multiple times a year. While most people will experience some emotional symptoms between episodes, some may not experience any.

Although bipolar disorder is a lifelong condition, you can manage your mood swings and other symptoms by following a treatment plan. In most cases, bipolar disorder is treated with medications and psychological counseling (psychotherapy).

(४ )सीजनल अफ्फेक्टिव डिसऑर्डर 

Seasonal affective disorder (SAD) is a type of depression that comes and goes with the seasons. It usually starts in the late fall and early winter and goes away during the spring and summer. Some people do have episodes of depression that start in the spring or summer, but that is a lot less common. Symptoms of SAD may include
  • Sadness
  • Gloomy outlook
  • Feeling hopeless, worthless, and irritable
  • Loss of interest or pleasure in activities you used to enjoy
  • Low energy
  • Difficulty sleeping or oversleeping
  • Carbohydrate cravings and weight gain
  • Thoughts of death or suicide
SAD is more common in women, young people, and those who live far from the equator. You are also m
ore likely to have SAD if you or your family members have depression.
The exact causes of SAD are unknown. Researchers have found that people with SAD may have an imbalance of serotonin, a brain chemical that affects your mood. Their bodies also make too much melatonin, a hormone that regulates sleep, and not enough vitamin D.
The main treatment for SAD is light therapy. The idea behind light therapy is to replace the sunshine that you miss during the fall and winter months. You sit in front of a light therapy box every morning to get daily exposure to bright, artificial light. But some people with SAD do not respond to light therapy alone. Antidepressant medicines and talk therapy can reduce SAD symptoms, either alone or combined with light therapy.
यूनिवर्सिटी हेल्थ न्यूज़ (UHN )से प्राप्त लोकोपकारक यह जानकारी प्रस्तुत चिठ्ठे में आपके साथ अतिविनम्रता और आदर के साथ प्रस्तुत है :


कारण ,हेतुकी ,अवसाद की ?
एक नहीं दर्जनों अंदरूनी और बाहरी ऐसे कारक हैं जो हमारे दिमाग में दिमागी रसयान शास्त्र  में तबदीली ला सकते हैं।उत्प्रेरक ,अवसाद के कारण ,ट्रिगर  भी अनेक हो सकतें हैं ,कुछ का उल्लेख करते हैं  

(१) स्ट्रेस ,जीवनशैली ,लम्बी अवधि तक बने रहने वाली बीमारी यहां तक की कुछ दवा दारु मेडिकेशन्स भी डिप्रेशन का कारण बन सकते हैं। अचानक होने वाली कोई बहुत बुरी  घटना ,किसी अपने बहुत अपने की आकस्मिक मृत्यु होना आदि। 
उत्पादक स्ट्रेस होना एक बात है लेकिन निरंतर इसका दीर्घावधि, चिरकालिक बने रहना एक दम से दूसरी बात है। कुछ दवाब तनाव तो जीवन में चाहिए भी किसी  बड़ी  उपलब्धि के लिए ज़रूरी भी है।

इतना ही नहीं शोध की खड़की से छनके ये बात भी आ रही है डिप्रेशन अपने आप में कई अन्य पसरे रहने वाले रोगों यथा हृद रोगों ,क्रोनिक हार्ट  डिजीज की भी वजह बन सकता है। 
अवसाद के लपेटे में होने पर आपको बिस्तर छोड़ना भी मुश्किल नहाना धोना नैत्यिक कर्म भी परेशानी सी देने लगते हैं। जैसे ये भी कोई गैर -ज़रूरी बवाल हो। 
दूसरी तरफ गई -बीती चर्या जीवनशैली ,पुअर लाइफस्टाइल भी डिप्रेशन का कारण बन सकता है। 

एक अच्छी बात यह है आपके सोने उठने की नियमित चर्या योर स्लीप पैटर्न आपके खाने की थाली में क्या है ,आपका फ़ूड चयन भी जीवन  शैली में सुधार डिप्रेशन से भी बाहर निकाल सकता है बचाये भी रह सकता है।यकीन मानिये -इस बात में कुछ तो जान है आप वही हैं जो आपकी खाने की थाली में है ,यू आर योर फ़ूड। जैसा अन्न वैसा मन। जैसा पानी (खान -पानी )वैसी वाणी।             

मूल प्रारूप पढ़िए - 

Take a depression test to see if your depression symptoms indicate you’re suffering from a serious condition


Dear me /virendra,

Have you ever asked yourself “Am I depressed?” Most people have. While many people feel blue some of the time, for some, these feelings are more persistent and can have a lasting impact on their lives. This is depression, a physical disease like any other.

Depression symptoms come in many forms. From mild to moderate to severe, depression symptoms come disguised as normal, everyday feelings.

Symptoms like:

  • Feeling sad or down most of the time
  • Difficulty concentrating
  • Feelings of helplessness
  • Increased use of alcohol
  • Low self-esteem
  • Neglecting your personal care
  • And many more
Unsure if these signs indicate you are suffering from depression? Your next step is to speak with your doctor. But there are some things you can do before getting an appointment. First, you’ll want to immediately get the free report, “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder from University Health News.
In this free guide, you’ll find depression tests to help you self-diagnose your condition before seeing a physician. These depression tests ask you questions about your energy and sleep; to evaluate your memory and concentration; to assess your appetite and much more.
Following the completion of a screening questionnaire, your physician will likely continue with a physical exam and some lab tests. Which lab tests are most common? Are brain scans customary? Should you expect to undergo a sleep study? Find out in our free report, “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder.

What causes depression?

There are dozens of internal and external factors that can produce changes in the brain, leading to depression. The triggers range from stress and illness to lifestyle and medications. Stress is actually a good thing . . . in the appropriate amounts. But what happens when you’re under too much stress?
And suffering from a chronic disease can definitely bring on bouts of depression but did you know that the research is now pointing to depression itself leading to chronic illnesses like heart disease?
If you’re depressed, you often have difficulty getting out of bed and taking proper care of yourself, but poor lifestyle habits can also lead to depression. Find out how your sleep routine and food and nutrition choices can reduce your depression risk. Get “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder now!

What are your depression symptoms telling you and your doctor?


A diagnosis of depression can range from mild, infrequent occurrences like seasonal affective disorder (SAD) to severe bouts of bipolar and clinical depression. An onset of seasonal affective disorder is usually tied to the change in seasons. Winter’s lack of sunlight, disrupts your body’s circadian rhythm and causes mild, but temporary type of depression.
But many people suffer from more serious forms of depression. The two main clinical depression diseases are Major Depressive Disorder and Persistent Depressive Disorder. And even more severe depressive conditions include bipolar disorder and psychotic depression. Each serious and complex, their symptoms fall in a wide range of feelings and physical characteristics.
Read the latest medical thinking on all types of depression – how to recognize them, how to treat them, how to live with them – in the free guide, “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder.

Depression symptoms in women and men

Diagnosing depression can be difficult. And the fact that depression symptoms can present themselves differently across genders, adds to the complexity. Depression often coexists with other health and mental conditions that have a higher prevalence in women. Hormonal differences and variances in displays of emotions contribute to challenges in diagnosing the disease. And your age impacts the signs you and your doctor assess in your diagnosis and treatment. Young children, teens, adults and the elderly all can express depression symptoms. Learn the details, particularly the unique signs of depression in women and men, in your free guide.

Best medications to treat depression symptoms

Numerous anitdepressants are available to elevate depression sufferers’ moods. After complete evaluations of any depression tests, physical exams and lab tests, your physician may prescribe depression medications like:
Selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs) like fluoxetine (Prozac), citalopram (Celexa), sertraline (Zoloft), escitalopram (Lexapro), or paroxetine (Paxil).

Serotonin and norepinephrine reuptake inhibitors (SNRIs) like duloxetine (Cymbalta), venlafaxine (Effexor), and desvenlafaxine (Pristiq).
Reuptake inhibitors and receptor blockers like trazodone (Desyrel) and nefazodone (Serzone).
Newer antidepressants that work a little differently from those listed above include bupropion (Wellbutrin), Mirtazapine (Remeron), vilazodone (Viibryd), and vortioxetine (Brintellix).
Tricyclic antidepressants (TCAs) are the oldest antidepressants, and include imipramine (Tofranil), nortriptyline (Pamelor), desipramine (Norpramin), amitriptyline (Elavil), and clomipramine (Anafranil).
And Monoamine oxidase inhibitors (MAOIs), also an older class of drugs including tranylcypromine (Parnate), phenelzine (Nardil), isocarboxazid (Marplan), and selegiline (Emsam, which comes in a skin patch formulation).
As with any medication, it’s important to follow your physician’s instructions and understand how the drug should work. Potential side-effects, discussed in this free guide, should also be reviewed with your doctor.

How to beat depression, naturally

In your free copy of “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder you’ll also get the pros and cons of complementary and alternative therapies. What works and what’s overblown hype.
St. John’s wort? The popular depression remedy can be effective for mild-to-moderate depression but the herb has side effects. Roseroot? A new study suggests it may be effective but without the troublesome side effects.
Relaxation techniques? Meditation, yoga and other relaxation techniques are effective alternative methods for treating mental health issues.
Omega-3 fatty acids? Definitely crucial to healthy brain function but results are mixed as a treatment for depression. B and D vitamins? SAMe supplements? Massage? Accupuncture? Light therapy? Get important information on these potential treatments to guide your discussions with your doctor from our freereport, “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder.

Living with depression

If you’re suffering from depression, your inactivity and isolation can further feed your depression. As you work with your doctor on the best treatment, what can you do to help ease the pain and live with your condition? Some advice from this free guide: Take it easy on yourself. Blaming yourself is not constructive.
Like any disease, the most important step is seeking help and making the decision to get better. Also, work to improve your health lifestyle choices. Better nutrition and exercise habits are always a good thing. Additional ways you can take care of yourself can be found in “Am I Depressed?” Treating depression symptoms, including bipolar and clinical depression, and seasonal affective disorder.
Yours for lasting good health,

Tim Cole
Editorial Director
P.S. Perhaps this free guide can help a friend or loved one with depression. If you’re trying to help someone else, realize, despite your best intentions, helping someone with depression isn’t always easy. Your friend or loved one might not realize he or she is depressed or may not be willing to accept your help. Realize that you cannot “cure” that person, no matter how hard you try. All you can do is help someone recognize that there is a problem, let him or her know you care, and suggest professional help.
P.P.S. Remember, while you can’t put a price on good health, this fact-filled, indispensable guide is absolutely FREE. Get your copy now!

LIVE - Shri Ram Katha by Shri Avdheshanand Giri Ji - 30th Dec 2015 || Day 5(Part l )

बिन सतसंग विवेक न होई ,

राम कृपा बिन सुलभ न सोई। 

 मनुष्य जीवन में पूर्णता का  आकांक्षी है। वह जीवन में इस  प्रकार  की पात्रता अर्जित करना चाहता है के उसके आसपास कोई अभाव न रहे। इसीलिए वह संपत्ति धन वैभव संचय करता है।वह लोकमान्य होना चाहता है शिखरस्थ होना चाहता है। उसके पास जो दारिद्रय है उससे मुक्त सुखमय आनंदमय जीवन जीना चाहता है। इसलिये वह उन ज्ञान  गलियों  को ढूंढता है जहां से उसे भ्रम मुक्ति का ,दुःख के निराकरण का और चित्त के स्थाई समाधान का मार्ग मिले।

हमारे शास्त्र कहते हैं जिस गलियारे से जीवन को पूर्णता ,मन को तुष्टि पुष्टि सिद्धि और समाधान  मिलेगा  वह गलियारा बिना इन्द्रियों के संयम के नहीं मिलता। 

जितेन्द्रियता -

इन्द्रिय संयम -

जित : संग दोष :

कितना बोलना है सोच कैसी बनानी है ?इस पर काम कीजिये। जिसमें परमार्थ है प्रीती है बस वही विजेता है। इसके लिए इन्द्रीय संयम ज़रूरी है।  मन को जीते बिना आप कुछ पा नहीं सकते। 

मन : मनुष्याणां   कारणं बंध   मोक्षयोः  

मन ही बंधन का कारण है मन ही मोक्ष का कारण है। जब आप मनोजयी हैं तब यह मन मोक्ष का कारण है -मनुस्मृति और भगवद्गीता दोनों ही ऐसा कहतीं हैं। 

जो अनुकूलताओं का संचय करने में जुटा है उसी का नाम मन है -रामायण ऐसा कहती है। सब अनुकूल बने शासक ,प्रशासक ,संतति ,देव सत्ता सब मेरे अनुकूल रहें।हर मनुष्य यही तो चाहता है।  

प्रतिकूलताओं का प्रतिकार करना चाहता है मन।

मन अन्य में पूरी प्रकृति में रूपांतरण का आकांक्षी है। मन अनुकूलताओं का संचय करता है। 

परिवर्तन स्वयं में हो -साधना का एक प्रबल पक्ष यही है। लेकिन हम परिवर्तन के आकांक्षी है अन्य में। यही हमारे सारे दुखों का कारण है। 

क्या हम स्वयं में परिवर्तन कर सकते हैं ?


"मेरी मान्यताएं मूढ़ तो नहीं है मेरे चित्त में चांचल्य का अतिरेक तो नहीं है। मेरे आग्रह अति प्रचंड तो नहीं हैं। मेरी जीवन शैली  से बहुत से लोग व्यथित तो नहीं होते उनके स्वाभिमान को चोट तो नहीं पहुँचती। मेरी प्रतिक्रिआएं बहुत भीषण तो नहीं होती। "-क्या कभी इस बात पर हम ध्यान देंगें ?


हमारी  प्रतिक्रियाएं  बहुत भीषण न हों। विभीषण की तरह रस -सिद्ध हों ,शांत हों।पूरी लंका में उनके अलावा सबमें सबकी प्रतिक्रियाओं में  भीषणता है।हनुमान ने राम को यही तो कहा -जिस लंका से मैं लौट के आ रहा हूँ वहां एक ही व्यक्ति ऐसा मिला जिसकी  प्रतिक्रिया भीषण न थी।वह था -विभीषण  -ऐसा व्यक्ति जो बहुत आदरणीय है जिस पर विश्वास किया जा सकता है। 

ध्यान दें के हम आवेशित न हों ,भीषण न हों ,उत्तेजित न हों। हम थोड़ा संयम में रहें। हम अपने चरित्र पर चित्त पर थोड़ा ध्यान दें। हमें ध्यान रहे हम श्रेष्ठ जनों के बीच में हैं। हम उद्धृत न हों। स्वामित्व की प्रवृत्ति हम में उतनी न रहे।बालकों के लिए हम स्वीकार्य हों उनका तिरस्कार न करें।  दूसरों के स्वाभिमान के प्रति ,संवेदनाओं के प्रति हम स्वयं सजग रहें।एकीकृत रहें।  

वेद ऐसा कहता है -

बस इतना ही हम न देखें के हम संगठित हैं समन्वित हैं एक साथ कदम मिलाकर एक ही फ़ाइल में हम सबके साथ चल रहे हैं। 

लेकिन क्या उनकी विचारधारा के लिए भी हम में समर्थन है ?संगठन का एक बड़ा सूत्र है दूसरों की भावनाएं आहत न हों।अहिंसा यही है। 

यह युग ऐसा है इसमें वैर है असुरक्षा है आतंक है अनीति है दुराचार है। इसलिए क्योंकि हम दूसरे का मन नहीं जान पा रहे हैं। 

उसके हिस्से में भी स्वाभिमान आता है सम्मान आता है। उसके अधिकारों के प्रति भी सचेत बनिए ,उसकी विकलता अभावों को महसूस कीजिये। अगर वह अभावग्रत है तो उसे अन्न ,अर्थ और औषधि पहुंचाओ।

सच्ची उपासना यही है वेद यही कहता है

 देवताओं जैसी नीयत बनाओं। बूढ़ों के स्वाभिमान का ,सम्मान का आपको आदर करना है उन  तक यह सन्देश  पहुंचे -अभी तक उनकी सीख के प्रति आपमें शिष्यत्व है उन्हें उपहार नहीं समय चाहिए। 

आध्यात्मिक व्यक्ति वह है जिसका उधर  ध्यान गया है  . स्वयं भू बनना चाहते हो ,उसका एक ही साधन है -पुण्य।

 यही पाथेय है जो परलोक में भी काम आएगा।पुण्य ही पाथेय है परलोक के लिए वही आपको देवलोक में ले जाएगा। 

पुण्य क्या है ?    

परोपकार: पुण्याय :,
पापाय :परपीड़नं। 

वृक्ष की तरह  जीयो -वही तो बादलों को पर्जन्यों को बुलाता है। बादलों को चाहिए वृक्ष उनकी आद्रता।वृक्ष की लकड़ियां उदर की प्यास भूख मिटाने के लिए ईंधन बन जाती हैं। ऐसा बनो। 

हवन की भस्म ,विभूति बनो ,जो राख से भी ज्यादा आदरणीय हैं। वह लकड़ी जो समिधा है वह बनो ,  चूल्हे की लकड़ी नहीं यज्ञ की समिधा बनके   जलना।भस्म बनना जो  शिव के मस्तक पर भी चढ़ेगी।वह भस्म जो शिवाभिषेक के काम आ रही है नागाओं के तन पर मस्तक पर जो शोभा है विभूति की वह समिधा की ही विभूति है। 

फर्क सिर्फ इतना है लकड़ी किस निमित्त जली है। 

क्या आदमी की कोई चीज़ काम नहीं आती ?

साधना का कोई पहला चरण है  तो उसका नाम है आत्मनिरीक्षण।कथा खुद को जानने  का एक हेतु है वह आपको आत्मनिरीक्षण के लिए तैयार करती है।  आत्मसुधार  के लिए आप में बाध्यता  पैदा करती हैं ,आत्म -सुधार के लिए व्याकुलता पैदा करती है। और दशरथ एक दिन ऐसा करते हैं। दशरथ ने अपने पुण्यों के फल का प्रताप देखा है निशाचरों के आतंक से जिस स्वर्ग में भी हाहाकार मच जाता है  अपने पुण्यों की प्रचंडता के प्रताप से वह स्वर्ग में छलांग लगाके देवताओं की सहायता के लिए पहुचं जाते हैं लेकिन जो मर्यादा जो बात राम में है वह मुझमे नहीं है।ऐसा शील सौंदर्य माधुर्यता ,विद्या की सम्पन्नता ,वातसल्य मुझमें नहीं है। मैं एक अच्छा नगर सेवक तो हूँ अच्छा प्रशासक तो रहा लेकिन वह भगवद्ता ,वैसा पावित्र्य ,उस तरह की उच्चता मुझमें नहीं है जो राम में है।

इसलिए मुझे ठीक समय पर इस सत्ता को राम के हाथों में सौंप देना चाहिए। मनुष्य प्रत्येक से जीतना चाहता है लेकिन एक पिता अपने पुत्र की योग्यता से और एक माँ अपनी बेटी के शील और सौंदर्य से नैतिकता  से हारना चाहतीहै।  

सच्चा गुरु भी वही है जो अपने शिष्य से हारना चाहता है ज्ञान में वैराग्य में इन्द्रियों के संयम में ,अलोभता में ,अकामता में और निरंतर उस दिन की प्रतीक्षा करता  है।स्वर्ग के भी आकर्षण मेरे शिष्य को  तनिक भी न छूएं। और जिस दिन गुरु को अपने शिष्य में यह दीखता है के स्वर्ग की भी कोई सत्ता  इसमें लोभता पैदा नहीं कर रही है ,यह आप्तकाम पूर्णकाम हो चुका है  अलोभता को प्राप्त हो चुका है उस दिन वह अपने आसन से खड़ा हो जाता है शिष्य को उस पर बिठाता है और कहता है आज से गुरु अब तुम ही हो।

तो सफल व्यक्ति कौन है ? 
सफल व्यक्ति वही है जो अपने जीवन में उत्तराधिकारी चुन ले। उन्हें श्रम पूर्वक तैयार कर ले।

तो दशरथ ने सोचा राम ने मुझे जीत लिया। राम नरोत्तम है पुरुषोत्तम है। नरवीर नृसिंह हैं जितना ही में राम को ढूंढता हूँ राम उतने ही और बड़े होते जाते हैं ये अंबर उनके सामने छोटा हो गया है। 

(ज़ारी) ..   

   सन्दर्भ -सामिग्री :

(१ )
  

Up next

(२  )https://www.youtube.com/watch?v=cByJ4qB0ZVI

शुक्रवार, 8 दिसंबर 2017

Shri Ram Katha by Shri Avdheshanand Giri Ji - Day 4 (Part lll )

जैसा पानी वैसी वाणी जैसा अन्न वैसा मन -अन्न और जल से ही हमारी प्रकृति का निर्माण होता है। जब कभी जल पीयो ,गंगा को याद कर लेना ,अन्न ग्रहण करो तो नारायण का स्मरण कर लेना। 

राम कहते हैं -लक्ष्मण हम एक ऐसे नगर में जा रहे हैं जहां ऐसे लोग रहते हैं जो देह में नहीं रहते।हवन कुंड की लकड़ी खत्म हो जाए तो अपना पैर  हवन कुंड में डाल देते हैं।  ये देह तो एक आवरण है उपाधि है जैसे आप वस्त्र लपेट लेते हैं वैसे ही है। 

आपकी आत्मा में वैसे ही आपका मन लिपटा हुआ है ,बुद्धि लिपटी हुई है।हमारे तीन शरीर हैं :

ये देह भी एक आवरण  है। आत्मा के  ऊपर यह बुद्धि भी एक आवरण है।मन भी।  अपने अनेक प्रयोजनों की पूर्ती में जो संलग्न है उसका नाम ग्यानी है। उसमें समय का ,ऊर्जा का,उत्साह का , आशावादिता का प्रबंधन है।विजय का संकल्प है। समयबद्ध नियोजन है उसके पास। 

जो बहुत स्वाभाविक हो गया था वह था जनक। जब सीता धनुष उठाकर एक तरफ रख रहीं थीं मांढ़ना बनाने के लिए अल्पना ,रंगोली बनाने के लिए रख रहीं थीं जब यह दृश्य जनक ने देखा ,सीता की माँ ने देखा तो वह सुख से भर गए। मेरी पुत्री पराम्बा है  ये धनुष तो किसी से हिलता भी नहीं है।यह सीता नहीं पराम्बा है इसके लिए तो वर के रूप में  एक राम ही चाहिए। और जनक ने तभी यह संकल्प ले लिया -जो इस शिव धनु को भंग करेगा वही मेरी पुत्री का वरण  करेगा उसे जयमाल पहनायेगा।   

जब खाया भंग का गोला ,

गोपी बन गए बम -भोला।  

शिव रास में हिस्सा तभी ले पाते हैं तभी रास देख पाते हैं जब अपने अंदर स्त्री भाव पैदा कर लेते हैं। पुरुष बनकर वह रास नहीं देख सकते। इस देह को पात्र बनाओ। पुजारी जो देवी का श्रृंगार करता है पहले अपने अंदर स्त्रीभाव पैदा करता है ऐसे ही माँ के कपोल नहीं छू  सकता ,बिंदिया नहीं लगा सकता आलता  नहीं लगा सकता पैरों में ,करधनी नहीं पहना सकता कटिबंध में। वह पत्थर का श्रृंगार नहीं कर रहा है माँ का कर रहा है। स्त्रैण भाव उसे पैदा करना पड़ता है पुरुष (पुजारी )बन के वह माँ का श्रृंगार नहीं कर सकता। पहले उसे अपनी देह को पात्र  बनाना पड़ता है।  
इस देह को भी तर्जनी को भी पात्र बनाना पड़ता है। 

 तर्जनी से अपार ऊर्जा  का स्खलन होता है इसे कभी मत उठाओ।  तर्जनी से  सिर्फ पितरों की पूजा की जाती है उन्हें ही तिलक लगाया जाता है।  
शत्रु को अगर जीत लिया है तो उसे तिलक बीच की ऊँगली से लगाया जाएगा। माँ बेटे को ,पत्नी पति को तिलक , बहन भाई को अनामिका से ही तिलक लगाएगी। नीचे से ऊपर की ओर  उसे ले जाएगी। जो ऊर्ध्वगमन का प्रतीक है। 

तो जनक पात्र बन गए। उन्हें पता चल गया जब मेरे घर में सीता आ गई तो मैं पात्र बन गया। ब्रह्म आएगा अब मेरे घर  ,मेरे पास ,नारायण आएगा मेरे पास। जब यह देखा मेरी बेटी धनुष उठाकर चल रही है तभी उन्होंने संकल्प  ले लिया शिव के समक्ष जल लेकर अंजुरी में प्रतिज्ञा की जो इस धनुष को उठा लेगा उसी के गले में मेरी पुत्री जयमाल डालेगी। 

तो जब संसार भर के शासकों राजाओं को बुलाया स्वयंवर के लिए -तो जनक स्वयं नहीं गए -सचिव को मात्यों को भेज रहें हैं उन सबकी  अगवानी के लिए। 

जब राम आएगा तो मैं जाऊंगा। राम आएगा ,क्योंकि मेरे यहां सीता है।जो समय के पार देख लेता है वही तो जनक है। विदेह है जो शरीरातीत ,भावातीत ,समयातीत है वही तो जनक है।  

अस्वाद ,अक्रोध ,अवैर  ,अनिन्दा ,इष्टानुगत ,इष्टानुगति । ये पांच चीज़ें ज़रूरी हैं किसी भी व्रत के लिए।ये चीज़ें नहीं हुईं तो व्रत खंडित हो जाएगा।  

सोमवार का व्रत शिव  के ध्यान में ,एकादशी का -नारायण ,बुद्धवार ,मंगलवार गणपति के ध्यान में ,और हनुमानजी का व्रत कर रहे हो तो हनुमान के ध्यान में। 
जिसे व्रत करने नहीं आते जिसने इन्द्रियों को नहीं साधा है वह व्रत नहीं ले सकता। 

एक बार भीषण अकाल पड़ा जनकपुर में -

राजा जनक ने प्रतिज्ञा की मैं शिवाभिषेक करूंगा  -"शिवाभिषेक करने से परिजन्य आयेंगे-बारिश होगी" ,गुरु ने कहा पहले  ये व्रत ले -राजा ने जल हाथ में लेकर  शपथ खाई जिस विधि से गुरु जलाभिषेक कराएंगे वैसे ही मैं करूंगा। 

व्रत क्या था ?रुद्राभिषेक की विधि क्या थी ?कितनी दुस्साध्य थी जनक ने नहीं पूछा बस कह दिया मैं करूंगा -

जब गुरु ने बताया :

राज कूप में कच्चा घड़ा डाला जाए -रुइ हाथ में लेकर कोई नारी एक  कच्चा धागा रुई में से निकाले उससे घड़े का मुंह बांधा जाए उसे कुँए  में डाला जाए जल निकाला जाए उस कच्चे घड़े से।  उस जल से ही  रुद्राभिषेक होगा।
जनक ने कहा यह मुझसे नहीं होगा कौन करेगा यह ?गुरु ने कहा तेरी पत्नी करेगी वह पतिव्रता है। पत्नी ने कहा मैं कर तो सकतीं हूँ लेकिन हो सकता है कच्चा घड़ा पानी में जाकर बिखर जाए। फूट जाए मुझमें इतना आत्मविश्वास नहीं है। लेकिन हाँ एक स्त्री है जो ऐसा कर सकती है। उसने राम को पैदा किया है। कौशल्या माता ऐसा कर सकतीं हैं। 

जनक की पत्नी ने कहा मैंने तो सीता को अपनी कोख से पैदा नहीं किया वह तो हमें धरती से मिली है लेकिन हाँ मुझे इतना विश्वास है के माता कौशल्या ने राम को अपनी कोख से पैदा किया है वह ऐसा कर सकतीं हैं।वह परमात्मा  से संवाद कर सकतीं हैं। 

दसरथ को चिठ्ठी लिखी गई। गुप्त रूप से भेजी गई।सहायता मांगी गई रुद्राभिषेक संपन्न करवाने के लिए ताकि जनकपुरी से अकाल के बादल छट  जाएँ। 

 राजा दशरथ   पत्र देखकर मुस्कुराये।कैकई पूछती हैं इस प्रकार क्यों मुस्कुरा रहे हो स्वामी आज आप ?राजा मन ही मन में सोच  रहे थे -अब पता चलेगा कैकई को कौशल्या कितनी गुनी हैं। बोले राजा कौशल्या के लिए पत्र है तुम्हारे लिए नहीं हैं बोली कैकई मुझे भी दिखाओ ऐसा क्या है इस खत में और फिर चिठ्ठी पढ़के बोलीं  मैं करूंगी यह काम तभी वहां सुमित्रा भी अकस्मात आ पहुंचीं कहने लगी सब काम तुम ही करोगी। हमें भी तो सेवा का मौक़ा मिले -यह काम तो मैं करूंगी। मैं जाऊंगी जनक की नगरी ,मैं रुई से कच्चा धागा निकाल के घड़े के मुख से बांधूंगी  ...अभी उनकी बात पूरी भी नहीं हुई थी एक दासी भी इस दरमियान वहां पहुँच गई थी वह बोली ये काम रानियों के करने का नहीं है कुँए से पानी  निकालने का काम दास दासियों का होता है। मैं कर लूंगी यह काम। 

कौशल्या के वस्त्र मांगे दासी ने उसी पालकी में उसे जनकपुर भेजा गया पूरे अमले के साथ। और भी पालकियां यथावत साथ गईं। दासी ने ये काम कर दिया। लेकिन जब वह यह काम कर ने लगी थी जानते हो वह मन ही मन क्या कह रहीं थीं कौशल्या नम :  कौशल्या नम:  -मैं ये काम कौशल्या के निमित्त कर रहीं हूँ वह ही इसकी करता हैं मैं तो निमित्त मात्र हूँ।वह मन ही मन कौशल्या जी की स्तुति कर रहीं थीं कहीं मेरे में करता पैन का अभिमान न आ जाए। 

जनकपुर का अकाल दूर हुआ सुखद वर्षा हुई। जनक की पत्नी पालकी की ओर  उस दासी के चरण स्पर्श के लिए आगे बढ़ीं तभी दासी पालकी से बाहर आ गईं -अभी तक जनकपुर वासी यही सोच रहे थे ये करतब कौशल्या जी ने किया है। जब सब को असलियत पता चली -राजा जनक ने मन ही मन सोच लिया -विवाह का न्योता ,स्वयंवर की चिठ्ठी अयोध्या नहीं भेजेंगे वहां का तो कोई किंकर ,दास ही आकर धनुष तोड़ देगा और सीता जी को वही  ब्याह के ले जायेगा। ऐसे प्रवीण थे तमाम अयोध्या वासी। 

एक बात और स्वयंवर के लिए राजा जनक ने केवल राजाओं को बुलाया था ,राजकुमारों को नहीं। दूसरी बात दशरथ तो आएंगे नहीं धनुष उठाने क्योंकि उनकी मान्यता नहीं है। लेकिन अगर मेरे पास सीता है तो विवश होकर राम को आना ही पड़ेगा। 

समाचार मिथिलापति पाए ,
विश्वामित्र महामुनि आये।  

उच्च पदस्थ सचिवालय ,सकल मंत्रिमंडल ,कवि , अमात्य ,मंगलाचरण और स्वस्तिवाचन में निपुण लोगों को ,चारण भाटों को साथ लेकर जनक जी नंगे पैर ही चल पड़े गुरु विश्वामित्र की आवभगत स्वागत को। तमाम राजा सोचने लगे ऐसा कौन आया है जिसकी अगवानी को स्वयं राजा जनक जा रहे हैं और वह भी नंगे ही पैर। 

गुप्तचरों ने कहा विश्वामित्र आएं हैं। राजा के गुरु ,धर्मसत्ता ,ज्ञान सत्ता आई है ,मुझसे मिलने उनकी उदारता तो देखो जनक मन ही मन सोचते हैं  मैं तो उन्हें निमंत्रण देना ही भूल गया। विदूषक भी ले चले राजा साथ में कवि ,पंड़ित ग्यानी सभी को लेकर -गुरु के चरणों में सर रख  दिया। गुरु एक पवित्रता का नाम है अलोभ सत्ता का ,अकाम सत्ता का नाम है जो निर्विषय है वही गुरु है। संसार में कोई ऐसा आकर्षण नहीं जो उसे अटका सके। गुरु में अगर आपकी  श्रृद्धा है तो गुरु बिना निमंत्रण के भी चला आएगा। 

जैसे ही चरणों में सर रखा -प्रणाम करके जनक उठे -राम पर नज़र पड़ी।

उनके मुख मंडल पर जनक अटक गए। 

मूरत  मधुर मनोहर देखी 

रोटी रूखी तो न खाओ ,थोड़ा घी तो लेते जाओ -विठ्ठला -विठ्ठला  कहते हुए भागे थे नामदेव स्वान  के पीछे कहते हुए क्या स्वान  की शक्ल बनाई हुई है विठ्ठला -रोटी रूखी ही खाओगे -थोड़ा घी तो लेते जाओ। ऐसा ही होता है भावातिरेक ,भावानुराग में । 

राम को देखकर ब्रह्म ग्यानी निर्गुण के उपासक जनक विमोहित थे मंत्रमुग्ध थे। गुरु से दृष्टि हटी राम पर अटकी तो अटकी  ही रही।टकटकी लगाए देखते रहे राम को जनक। विदेह जनक देह में अटक गए सगुण ब्रह्म राम को देखते ही रह गए। 

स्वामी एकनाथ गंगोत्री से कठिनाई से लाया हुआ जल लेकर रामेश्वरम जा रहे थे सूखे कंठ से कराहते गर्दभ को देखा और सारा जल उसे ही पिला दिया।भगवान् ने ही उनकी परीक्षा ली थी ,क्या मैं सचमुच ही इसे सब जगह दिखता हूँ यह मुझ पर जल चढ़ाएगा या प्यास से छटपटाते गर्दभ को पानी पिलायेगा। भगवान् रामेश्वरम की  सीढ़ियों में मरता हुआ गधा बनकर लेट गए। मेरा रामेश्वरम मुझे इस गधे में दिखाई देता है और यह कहते हुए पूरी गंगाजली उसके मुंह में उड़ेल दी एकनाथ ने। भगवान् स्वयं प्रकट हो गए -विठ्ठला विठ्ठला कहने वाले नामदेव के सामने भी। 
शिवलिंग में शालिग्राम में कहाँ शक्ल है ?लेकिन पुजारी जानता है शिव का भाल कहा हैं। 
धीरे से पूरी शक्ल ही दिखने लगेगी आपको -ओष्ठ भी आ गए ,नासिका  भी ,कपोल भी। और फिर महाकालेश्वर की आरती में  बमभोला   ही पूरा प्रकट हो गया। पात्र (पुजारी )बनकर तो देखो जनक सा। 
गुरु चरणों का फल परमात्मा की प्राप्ति है -यही सन्देश है जनक और विश्वामित्र प्रकरण का यहां पर।
(ज़ारी )  
संदर्भ -सामिग्री :

(१ )